दंड प्रक्रिया संहिता-1973

Computer

Code of Criminal Procedure, 1973[Hindi Version]

दंड प्रक्रिया संहिता 

क़ानूनी धाराएं 

1-संक्षिप्त नाम, विस्तार और प्रारंभ
2-परिभाषाएं
3-निर्देशों का अर्थ लगाना
4-भारतीय दंड संहिता और अन्य विधियों के अधीन अपराधों का विचार
5-व्यावृत्ति
6-दंड न्यायालयों के वर्ग
7-प्रादेशिक खंड
8-महानगर क्षेत्र
9-सेशन न्यायालय
10-सहायक सेशन न्यायाधीशों का अधीनस्थ होना
11-न्यायिक मजिस्ट्रेटों के न्यायालय
12-मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट और अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, आदि
13-विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट
14-न्यायिक मजिस्ट्रेटों की स्थानीय अधिकारिता
15-न्यायिक मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होना
16-महानगर मजिस्ट्रेटों के न्यायालय
17-मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट और अपर मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट
18-विशेष महानगर मजिस्ट्रेट
19-महानगर मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होना
20-कार्यपालक मजिस्ट्रेट
21-विशेष कार्यपालक मजिस्ट्रेट
22-कार्यपालक मजिस्ट्रेटों की स्थानीय अधिकारिता
23-कार्यपालक मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होना
24-लोक अभियोजक
25-सहायक लोक अभियोजक
25a-अभियोजन निदेशालय
26-न्यायालय, जिनके द्वारा अपराध विचारणीय हैं
27-किशोरों के मामलों में अधिकारिता
28-दंडादेश, जो उच्च न्यायालय और सेशन न्यायाधीश दे सकेंगे
29-दंडादेश, जो मजिस्ट्रेट दे सकेंगे
30-जुर्माना देने में व्यतिक्रम होने पर कारावास का दंडादेश
31-एक ही विचारण में कई अपराधों के लिए दोषसिद्ध होने के मामलों में दंडादेश
32-शक्तियां प्रदान करने का ढंग
33-नियुक्त अधिकारियों की शक्तियां
34-शक्तियों को वापस लेना
35-न्यायाधीशों और मजिस्ट्रेटों की शक्तियों का उनके पद-उत्तरवर्तियों द्वारा प्रयोग किया जा सकना
36-वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की शक्तियां
37-जनता कब मजिस्ट्रेट और पुलिस की सहायता करेगी
38-पुलिस अधिकारी से भिन्न ऐसे व्यक्ति को सहायता जो वारंट का निष्पादन कर रहा है
39-कुछ अपराधों की इत्तिला का जनता द्वारा दिया जाना
40-ग्राम के मामलों के संबंध में नियोजित अधिकारियों के कतिपय रिपोर्ट करने का कर्तव्य
41-पुलिस वारंट के बिना कब गिरफ्तार कर सकेगी
41a-पुलिस अधिकारी के समक्ष हाजिर होने की सूचना
41b-गिरफ्तारी की प्रक्रिया और गिरफ्तारी करने वाले अधिकारी के कर्तव्य
41c-जिले में नियंत्रण कक्ष
41d-गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का पूछताछ के दौरान अपनी पसंद के अधिवक्ता से मिलने का अधिकार
42-नाम और निवास बताने से इनकार करने पर गिरफ्तारी
43-प्राइवेट व्यक्ति द्वारा गिरफ्तारी और ऐसी गिरफ्तारी पर प्रक्रिया
44-मजिस्ट्रेट द्वारा गिरफ्तारी
45-सशस्त्र बलों के सदस्यों का गिरफ्तारी से संरक्षण
46-गिरफ्तारी कैसे की जाएगी
47-उस स्थान की तलाशी जिसमें ऐसा व्यक्ति प्रविष्ट हुआ है जिसकी गिरफ्तारी की जानी है
48-अन्य अधिकारिताओं में अपराधियों का पीछा करना
49-अनावश्यक अवरोध न करना
50-गिरफ्तार किए गए व्यक्ति को गिरफ्तारी के आधारों और जमानत के अधिकार की इत्तिला दी जाना
50a-गिरफ्तारी करने वाले व्यक्ति की, गिरफ्तारी आदि के बारे में, नामित व्यक्ति को जानकारी देने की बाध्यता
51-गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों की तलाशी
52-आक्रामक आयुधों का अभिग्रहण करने की शक्ति
53-पुलिस अधिकारी की प्रार्थना पर चिकित्सा-व्यवसायी द्वारा अभियुक्त की परीक्षा
53a-बलात्संग के अपराधी व्यक्ति की चिकित्सा-व्यवसायी द्वारा परीक्षा
54-गिरफ्तार व्यक्ति की चिकित्सा अधिकारी द्वारा परीक्षा
54a-गिरफ्तार व्यक्ति की शिनाख्त
55-जब पुलिस अधिकारी वारंट के बिना गिरफ्तार करने के लिए अपने अधीनस्थ को प्रतिनियुक्त करता है तब प्रक्रिया
55a-गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का स्वास्थ्य और सुरक्षा
56-गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का मजिस्ट्रेट या पुलिस थाने के भारसाधक अधिकारी के समक्ष ले जाया जाना
57-गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का चौबीस घंटे से अधिक निरुद्ध न किया जाना
58-पुलिस का गिरफ्तारियों की रिपोर्ट करना
59-पकड़े गए व्यक्ति का उन्मोचन
60-निकल भागने पर पीछा करने और फिर पकड़ लेने की शक्ति
60a-गिरफ्तारी का सर्वथा संहिता के अनुसार ही किया जाना
61-समन का प्ररूप
62-समन की तामील कैसे की जाए
63-निगमित निकायों और सोसाइटियों पर समन की तामील
64-जब समन किए गए व्यक्ति न मिल सकें तब तामील
65-जब पूर्व उपबंधित प्रकार से तामील न की जा सके तब प्रक्रिया
66-सरकारी सेवक पर तामील
67-स्थानीय सीमाओं के बाहर समन की तामील
68-ऐसे मामलों में और जब तामील करने वाला अधिकारी उपस्थित न हो तब तामील का सबूत
69-साक्षी पर डाक द्वारा समन की तामील
70-गिरफ्तारी के बारंट का प्ररूप और अवधि
71-प्रतिभूति लिए जाने का निदेश देने की शक्ति
72-वारंट किसको निदिष्ट होंगे
73-वारंट किसी भी व्यक्ति को निदिष्ट हो सकेंगे
74- पुलिस अधिकारी को निदिष्ट वारंट
75-वारंट के सार की सूचना
76-गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का न्यायालय के समक्ष अविलम्ब लाया जाना
77-वारंट कहां निष्पादित किया जा सकता है
78-अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए भेजा गया वारंट
79-अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए पुलिस अधिकारी को निदिष्ट वारंट
80-जिस व्यक्ति के विरुद्ध वारंट जारी किया गया है, उसके गिरफ्तार होने पर प्रक्रिया
81-उस मजिस्ट्रेट द्वारा प्रक्रिया जिसके समक्ष ऐसे गिरफ्तार किया गया व्यक्ति लाया जाए
82-फरार व्यक्ति के लिए उद्घोषणा
83-फरार व्यक्ति की संपत्ति की कुर्की
84-कुर्की के बारे में दावे और आपत्तियां
85-कुर्क की हुई संपत्ति को निर्मुक्त करना, विक्रय और वापस करना
86-कुर्क संपत्ति की वापसी के लिए आवेदन नामंजूर करने वाले आदेश से अपील
87-समन के स्थान पर या उसके अतिरिक्त वारंट का जारी किया जाना
88-हाजिरी के लिए बंधपत्र लेने की शक्ति
89- हाजिरी का बंधपत्र भंग करने पर गिरफ्तारी
90-इस अध्याय के उपबंधों का साधारणतया समनों और गिरफ्तारी के वारंटों को लागू होना
91-दस्तावेज या अन्य चीज पेश करने के लिए समन
92-पत्रों और तारों के संबंध में प्रक्रिया
93-तलाशी-वारंट कब जारी किया जा सकता है
94-उस स्थान की तलाशी, जिसमें चुराई हुई संपत्ति, कूटरचित दस्तावेज आदि होने का संदेह है
95-कुछ प्रकाशनों के समपहृत होने की घोषणा करने और उनके लिए तलाशी-वारंट जारी करने की शक्ति
96-समपहरण की घोषणा को अपास्त करने के लिए उच्च न्यायालय में आवेदन
97-सदोष परिरुद्ध व्यक्तियों के लिए तलाशी
98-अपहृत स्त्रियों को वापस करने के लिए विवश करने की शक्ति
99-तलाशी-वारंटों का निदेशन आदि
100-बंद स्थान के भारसाधक व्यक्ति तलाशी लेने देंगे
101-अधिकारिता के परे तलाशी में पाई गई चीजों का व्ययन
102-कुछ संपत्ति को अभिगृहीत करने की पुलिस अधिकारी की शक्ति
103-मजिस्ट्रेट अपनी उपस्थिति में तलाशी ली जाने का निदेश दे सकता है
104-पेश की गई दस्तावेज आदि, को परिबद्ध करने की शक्ति
105-आदेशिकाओं के बारे में व्यतिकारी व्यवस्था
105a-परिभाषाएं
105b-व्यक्तियों का अंतरण सुनिश्चित करने में सहायता
105c-संपत्ति की कुर्की या समपहरण के आदेशों के संबंध में सहायता
105d-विधिविरुद्धतया अर्जित संपत्ति की पहचान करना
105e-सम्पत्ति का अभिग्रहण या कुर्की
105f-इस अध्याय के अधीन अभिग्रहीत या समपहृत संपत्ति का प्रबंध
105g-संपत्ति के समपहरण की सूचना
105h-कतिपय मामलों में संपत्ति का समपहरण
105i-समपहरण के बदले जुर्माना
105j-कुछ अंतरणों का अकृत और शून्य होना
105k-अनुरोध पत्र की बाबत प्रक्रिया
105l-इस अध्याय का लागू होना
106-दोषसिद्धि पर परिशांति कायम रखने के लिए प्रतिभूति
107-अन्य दशाओं में परिशांति कायम रखने के लिए प्रतिभूति
108-राजद्रोहात्मक बातों को फैलाने वाले व्यक्तियों से सदाचार के लिए प्रतिभूति
109-संदिग्ध व्यक्तियों से सदाचार के लिए प्रतिभूति
110-आभ्यासिक अपराधियों से सदाचार के लिए प्रतिभूति
111-आदेश का दिया जाना
112- न्यायालय में उपस्थित व्यक्ति के बारे में प्रक्रिया
113-ऐसे व्यक्ति के बारे में समन या वारंट जो उपस्थित नहीं है
114-समन या वारंट के साथ आदेश की प्रति होगी
115-वैयक्तिक हाजिरी से अभिमुक्ति देने की शक्ति
116-इत्तिला की सच्चाई के बारे में जांच
117-प्रतिभूति देने का आदेश
118-उस व्यक्ति का उन्मोचन जिसके विरुद्ध इत्तिला दी गई है
119-जिस अवधि के लिए प्रतिभूति अपेक्षित की गई है उसका प्रारंभ
120-बंधपत्र की अंतर्वस्तुं
121-प्रतिभुओं को अस्वीकार करने की शक्ति
122-प्रतिभूति देने में व्यतिक्रम होने पर कारावास
123-प्रतिभूति देने में असफलता के कारण कारावासित व्यक्तियों को छोड़ने की शक्ति
124-बंधपत्र की शेष अवधि के लिए प्रतिभूति
125-पत्नी, संतान और माता-पिता के भरणपोषण के लिए आदेश
126-प्रक्रिया
127-भत्ते में परिवर्तन
128-भरणपोषण के आदेश का प्रवर्तन
129-सिविल बल के प्रयोग द्वारा जमाव को तितर-बितर करना
130-जमाव को तितर-बितर करने के लिए सशस्त्र बल का प्रयोग
131-जमाव को तितर-बितर करने की सशस्त्र बल के कुछ अधिकारियों की शक्ति
132-पूर्ववर्ती धाराओं के अधीन किए गए कार्यों के लिए अभियोजन से संरक्षण
133- न्यूसेन्स हटाने के लिए सशर्त आदेश
134-आदेश की तामील या अधिसूचना
135-जिस व्यक्ति को आदेश संबोधित है बह उसका पालन करेगा या कारण दर्शित करेगा
136-उसके ऐसा करने में असफल रहने का परिणाम
137-जहां लोक अधिकार के अस्तित्व से इनकार किया जाता है वहां प्रक्रिया
138-जहां वह कारण दर्शित करने के लिए हाजिर है वहां प्रक्रिया
139-स्थानीय अन्वेषण के लिए निदेश देने और विशेषज्ञ की परीक्षा करने की मजिस्ट्रेट की शक्ति
140-मजिस्ट्रेट की लिखित अनुदेश आदि देने की शक्ति
141-आदेश अंतिम कर दिए जाने पर प्रक्रिया और उसकी अवज्ञा के परिणाम
142-जांच के लंबित रहने तक व्यादेश
143-मजिस्ट्रेट लोक नयूसेंस की पुनरावृत्ति या उसे चालू रखने का प्रतिषेध कर सकता है
144-न्यूसेंस या आशंकित खतरे के अर्जेंट मामलों में आदेश जारी करने की शक्ति
145-जहां भूमि या जल से संबद्ध विवादों से परिशांति भंग होना संभाव्य है वहां प्रक्रिया
146-विवाद की विषयवस्तु की कुर्क करने की और रिसीवर नियुक्त करने की शक्ति
147-भूमि या जल के उपयोग के अधिकार से संबद्ध विवाद
148-स्थानीय जांच
149-पुलिस का संज्ञेय अपराधों का निवारण करना
150-संज्ञेय अपराधों के किए जाने की परिकल्पना की इत्तिला
151-संज्ञेय अपराधों का किया जाना रोकने के लिए गिरफ्तारी
152-लोक संपत्ति की हानि का निवारण
153-बाटों और मापों का निरीक्षण
154-संज्ञेय मामलों में इत्तिला
155-असंज्ञेय मामलों के बारे में इत्तिला और ऐसे मामलों का अन्वेषण
156-संज्ञेय मामलों का अन्वेषण करने की पुलिस अधिकारी की शक्ति
157-अन्वेषण के लिए प्रक्रिया
158-रिपोर्ट कैसे दी जाएंगी
159-अन्वेषण या प्रारंभिक जांच करने की शक्ति
160-साक्षियों की हाजिरी की अपेक्षा करने की पुलिस अधिकारी की शक्ति
161-पुलिस द्वारा साक्षियों की परीक्षा
162-पुलिस से किए गए कथनों का हस्ताक्षरित न किया जाना ; कथनों का साक्ष्य में उपयोग
163-कोई उत्प्रेरणा न दिया जाना
164-संस्वीकृतियों और कथनों को अभिलिखित करना
164a-बलात्संग के पीड़ित व्यक्ति की चिकित्सीय परीक्षा
165-पुलिस अधिकारी द्वारा तलाशी
166-पुलिस थाने का भारसाधक अधिकारी कब किसी अन्य अधिकारी से तलाशी-वारंट जारी करने की अपेक्षा कर सकता है
166a-भारत के बाहर किसी देश या स्थान में अन्वेषण के लिए सक्षम प्राधिकारी को अनुरोध-पत्र
166b-भारत के बाहर के किसी देश या स्थान से भारत में अन्वेषण के लिए किसी न्यायालय या प्राधिकारी को अनुरोध-पत्र
167-जब चौबीस घंटे के अंदर अन्वेषण पूरा न किया जा सके तब प्रक्रिया
168-अधनीस्थ पुलिस अधिकारी द्वारा अन्वेषण की रिपोर्ट
169-जब साध्य अपर्याप्त हो तब अभियुक्त का छोड़ा जाना
170-जब साक्ष्य पर्याप्त है तब मामलों का मजिस्ट्रेट के पास भेज दिया जाना
171-परिवादी और साक्षियों से पुलिस अधिकारी के साथ जाने की अपेक्षा न किया जाना और उनका अबरुद्ध न किया जाना
172-अन्वेषण में कार्यवाहियों की डायरी
173-अन्वेषण के समाप्त हो जाने पर पुलिस अधिकारी की रिपोर्ट
174-आत्महत्या, आदि पर पुलिस का जांच करना और रिपोर्ट देना
175-व्यक्तियों को समन करने की शक्ति
176-मृत्यु के कारण की मजिस्ट्रेट द्वारा जांच
177-जांच और विचारण का मामूली स्थान
178-जांच या विचारण का स्थान
179-अपराध वहां विचारणीय होगा जहां कार्य किया गया या जहां परिणाम निकला
180-जहां कार्य अन्य अपराध से संबंधित होने के कारण अपराध है वहां विचारण का स्थान
181-कुछ अपराधों की दशा में विचारण का स्थान
182-पत्रों, आदि द्वारा किए गए अपराध
183-यात्रा या जलयात्रा में किया गया अपराध
184-एक साथ विचारणीय अपराधों के लिए विचारण का स्थान
185-विभिन्न सेशन खंडों में मामलों के विचारण का आदेश देने की शक्ति
186-संदेह की दशा में उच्च न्यायालय का बह जिला विनिश्चित करना जिसमें जांच या विचारण होगा
187-स्थानीय अधिकारिता के परे किए गए अपराध के लिए समन या वारंट जारी करने की शक्ति
188-भारत से बाहर किया गया अपराध
189-भारत के बाहर किए गए अपराधों के बारे में साक्ष्य लेना
190-मजिस्ट्रेटों द्वारा अपराधों का संज्ञान
191-अभियुक्त के आवेदन पर अंतरण
192-मामले मजिस्ट्रेटों के हवाले करना
193-अपराधों का सेशन न्यायालयों द्वारा संज्ञान
194-अपर और सहायक सेशन न्यायाधीशों को हवाले किए गए मामलों पर उनके द्वारा विचारण
195-लोक न्याय के विरुद्ध अपराधों के लिए और साक्ष्य में दिए गए दस्तावेजों से संबंधित अपराधों के लिए लोक सेवकों के विधिपूर्ण प्राधिकार के अवमान के लिए अभियोजन
195a-धमकी देने आदि की दशा में साक्षियों के लिए प्रक्रिया
196-राज्य के विरुद्ध अपराधों के लिए और ऐसे अपराध करने के लिए आपराधिक षडयंत्र के लिए अभियोजना
197-न्यायाधीशों और लोक सेवकों का अभियोजन
198-विवाह के विरुद्ध अपराधों के लिए अभियोजन
198a-भारतीय दंड संहिता की धारा 498क के अधीन अपराधों का अभियोजन
199-मानहानि के लिए अभियोजन
200-परिवादी की परीक्षा
201-ऐसे मजिस्ट्रेट द्वारा प्रक्रिया जो मामले का संज्ञान करने के लिए सक्षम नहीं है
202-आदेशिका के जारी किए जाने को मुल्तवी करना
203-परिवाद का खारिज किया जाना
204-आदेशिका का जारी किया जाना
205-मजिस्ट्रेट का अभियुक्त को वैयक्तिक हाजिरी से अभिमुक्ति दे सकना
206-छोटे अपराधों के मामले में विशेष समन
207-अभियुक्त को पुलिस रिपोर्ट या अन्य दस्तावेजों की प्रतिलिपि देना
208-सेशन न्यायालय द्वारा विचारणीय अन्य मामलों में अभियुक्त को कथनों और दस्तावेजों की प्रतिलिपियां देना
209-जब अपराध अनन्यत: सेशन न्यायालय द्वारा विचारणीय है तब मामला उसे सुपुर्द करना
210-परिवाद वाले मामले में अनुसरण की जाने वाली प्रक्रिया और उसी अपराध के बारे में पुलिस अन्वेषण
211-आरोप की अंतर्वस्तु
212-समय, स्थान और व्यक्ति के बारे में विशिष्टियां
213-कब अपराध किए जाने की रीति कथित की जानी चाहिए
214-आरोप के शब्दों का वह अर्थ लिया जाएगा जो उनका उस विधि में है जिसके अधीन वह अपराध दंडनीय है
215-गलतियों का प्रभाव
216-न्यायालय आरोप परिवर्तित कर सकता है
217-जब आरोप परिवर्तित किया जाता है तब साक्षियों का पुन: बुलाया जाना
218-सुभिन्न अपराधों के लिए पृथक् आरोप
219-एक ही वर्ष में किए गए एक ही किस्म के तीन अपराधों का आरोप एक साथ लगाया जा सकेगा
220-एक से अधिक अपराधों के लिए विचारण
221-जहां इस बारे में संदेह है कि कौन-सा अपराध किया गया है
222-जब वह अपराध, जो साबित हुआ है, आरोपित अपराध के अंतर्गत है
223-किन व्यक्तियों पर संयुक्त रूप से आरोप लगाया जा सकेगा
224-कई आरोपों में से एक के लिए दोषसिद्धि पर शेष आरोपों को वापस लेना
225-विचारण का संचालन लोक अभियोजक द्वारा किया जाना
226-अभियोजन के मामले के कथन का आरंभ
227- उन्मोचन
228-आरोप विरचित करना
229-दोषी होने के अभिवचन
230-अभियोजन साक्ष्य के लिए तारीख
231-अभियोजन के लिए साक्ष्य
232-दोषमुक्ति
233-प्रतिरक्षा आरंभ करना
234-बहस
235-दोषमुक्ति या दोषसिद्धि का निर्णय
236- पूर्व दोषसिद्धि
237-धारा 199(2) के अधीन संस्थित मामलों में प्रक्रिया
238-धारा 207 का अनुपालन
239-अभियुक्त को कब उन्मोचित किया जाएगा
240-आरोप विरचित करना
241-दोषी होने के अभिवाक् पर दोषसिद्धि
242-अभियोजन के लिए साक्ष्य
243-प्रतिरक्षा का साक्ष्य
244-अभियोजन का साक्ष्य
245-अभियुक्त को कब उन्मोचित किया जाएगा
246-प्रक्रिया, जहां अभियुक्त उन्मोचित नहीं किया जाता
247-प्रतिरक्षा का साक्ष्य
248-दोषमुक्ति या दोषसिद्धि
249-परिवादी की अनुपस्थिति
250-उचित कारण के बिना अभियोग के लिए प्रतिकर
251-अभियोग का सारांश बताया जाना
252-दोषी होने के अभिवाक् पर दोषसिद्धि
253-छोटे मामलों में अभियुक्त की अनुपस्थिति में दोषी होने के अभिवाक् पर दोषसिद्धि
254-प्रक्रिया जब दोषसिद्ध न किया जाए
255-दोषमुक्ति या दोषसिद्धि
256-परिवादी का हाजिर न होना या उसकी मृत्यु
257-परिवाद को वापस लेना
258-कुछ मामलों में कार्यवाही रोक देने की शक्ति
259-समन-मामलों को वारण्ट-मामलों में संपरिवर्तित करने की न्यायालय की शक्ति
260-संक्षिप्त विचारण करने की शक्ति
261-द्वितीय वर्ग के मजिस्ट्रेटों द्वारा संक्षिप्त विचारण
262-संक्षिप्त विचारण की प्रक्रिया
263-संक्षिप्त विचारण की प्रक्रिया
264-संक्षेपत: विचारित मामलों में निर्णय
265-अभिलेख और निर्णय की भाषा
265a-अध्याय का लागू होना
265b-सौदा अभिवाक् के लिए आवेदन
265c-पारस्परिक संतोषप्रद निपटारे के लिए मार्गदर्शी सिद्धांत
265d-पारस्परिक संतोषप्रद निपटारे की रिपोर्ट का न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाना
265e-मामले का निपटारा
265f-न्यायालय का निर्णय
265g-निर्णय का अंतिम होना
265h-सौदा अभिवाक् में न्यायालय की शक्ति
265i-अभियुक्त द्वारा भोगी गई निरोध की अवधि का कारावास के दंडादेश के विरुद्ध मुजरा किया जाना
265j-व्यावृत्ति
265k-अभियुक्त के कथनों का उपयोग न किया जाना
265l-अध्याय का लागू न होना
266-परिभाषाएं
267-बन्दियों को हाजिर कराने की अपेक्षा करने की शक्ति
268-धारा 267 के प्रवर्तन से कतिपय व्यक्तियों को अपवर्जित करने की राज्य सरकार की शक्ति
269-कारागार के भारसाधक अधिकारी का कतिपय आकस्मिकताओं में आदेश को कार्यान्वित न करना
270-बन्दी का न्यायालय में अभिरक्षा में लाया जाना
271-कारागार में साक्षी की परीक्षा के लिए कमीशन जारी करने की शक्ति
272-न्यायालयों की भाषा
273-साक्ष्य का अभियुक्त की उपस्थिति में लिया जाना
274- समन-मामलों और जांचों में अभिलेख
275- वारण्ट-मामलों में अभिलेख
276-सेशन न्यायालय के समक्ष विचारण में अभिलेख
277-साक्ष्य के अभिलेख की भाषा
278-जब ऐसा साक्ष्य पूरा हो जाता है तब उसके संबंध में प्रक्रिया
279-अभियुक्त या उसके प्लीडर को साक्ष्य का भाषान्तर सुनाया जाना
280-साक्षी की भावभंगी के बारे में टिप्पणियां
281-अभियुक्त की परीक्षा का अभिलेख
282-दुभाषिया ठीक-ठीक भाषान्तर करने के लिए आबद्ध होगा
283-उच्च न्यायालय में अभिलेख
284-कब साक्षियों को हाजिर होने से अभिमुक्ति दी जाए और कमीशन जारी किया जाएगा
285-कमीशन किसको जारी किया जाएगा
286-कमीशनों का निष्पादन
287-पक्षकार साक्षियों की परीक्षा कर सकेंगे
288-कमीशन का लौटाया जाना
289-कार्यवाही का स्थगन
290-विदेशी कमीशनों का निष्पादन
291-चिकित्सीय साक्षी का अभिसाक्ष्य
291A-मजिस्ट्रेट की शिनाख्त रिपोर्ट
292-टकसाल के अधिकारियों का साक्ष्य
293-कतिपय सरकारी वैज्ञानिक विशेषज्ञों की रिपोर्ट
294-कुछ दस्तावेजों का औपचारिक सबूत आवश्यक न होना
295-लोक सेवकों के आचरण के सबूत के बारे में शपथपत्र
296-शपथपत्र पर औपचारिक साक्ष्य
297- प्राधिकारी जिनके समक्ष शपथपत्रों पर शपथ ग्रहण किया जा सकेगा
298-पूर्व दोषसिद्धि या दोषमुक्ति कैसे साबित की जाए
299-अभियुक्त की अनुपस्थिति में साक्ष्य का अभिलेख
300- एक बार दोषसिद्ध या दोषमुक्त किए गए व्यक्ति का उसी अपराध के लिए विचारण न किया जाना
301-लोक अभियोजकों द्वारा हाजिरी
302-अभियोजन का संचालन करने की अनुज्ञा
303-जिस व्यक्ति के विरुद्ध कार्यवाही संस्थित की गई है उसका प्रतिरक्षा कराने का अधिकार
304-कुछ मामलों में अभियुक्त को राज्य के व्यय पर विधिक सहायता
305-प्रक्रिया, जब निगम या रजिस्ट्रीकृत सोसाइटी अभियुक्त है
306-सह-अपराधी को क्षमा-दान
307-क्षमा-दान का निदेश देने की शक्ति
308-क्षमा की शर्तों का पालन न करने वाले व्यक्ति का विचारण
309-कार्यवाही को मुल्तवी या स्थगित करने की शक्ति
310-स्थानीय निरीक्षण
311-आवश्यक साक्षी को समन करने या उपस्थित व्यक्ति की परीक्षा करने की शक्ति
311a-नमूना हस्ताक्षर या हस्तलेख देने के लिए किसी व्यक्ति को आदेश देने की मजिस्ट्रेट की शक्ति
312-परिवादियों और साक्षियों के व्यय
313-अभियुक्त की परीक्षा करने की शक्ति
314-मौखिक बहस और बहस का ज्ञापन
315-अभियुक्त व्यक्ति का सक्षम साक्षी होना
316-प्रकटन उप्रेरित करने के लिए किसी असर का काम में न लाया जाना
317-कुछ मामलों में अभियुक्त की अनुपस्थिति में जांच और विचारण किए जाने के लिए उपबंध
318-प्रक्रियां जहां अभियुक्त कार्यवाही नहीं समझता है
319-अपराध के दोषी प्रतीत होने वाले अन्य व्यक्तियों के विरुद्ध कार्यवाही करने की शक्ति
320-अपराधों का शमन
321-अभियोजन वापस लेना
322-जिन मामलों का निपटारा मजिस्ट्रेट नहीं कर सकता, उनमें प्रक्रिया
323-प्रक्रिया जब जांच या विचारण के प्रारंभ के पश्चात् मजिस्ट्रेट को पता चलता है कि मामला सुपुर्द किया जाना चाहिए
324-सिक्के, स्टाम्प विधि या सम्पत्ति के विरुद्ध अपराधों के लिए तत्पूर्व दोषसिद्ध व्यक्तियों का विचारण
325-प्रक्रिया जब मजिस्ट्रेट पर्याप्त कठोर दंड का आदेश नहीं दे सकता
326-भागत: एक न्यायाधीश या मजिस्ट्रेट द्वारा और भागत: दूसरे न्यायाधीश या मजिस्ट्रेट द्वारा अभिलिखित साक्ष्य पर दोषसिद्धि या सुपुर्दी
327-न्यायालयों का खुला होना
328-अभियुक्त के पागल होने की दशा में प्रक्रिया
329-न्यायालय के समक्ष विचारित व्यक्ति के विकृतचित्त होने की दशा में प्रक्रिया
330-अन्वेषण या विचारण के लंबित रहने तक विकृतचित्त व्यक्ति का छोड़ा जाना
331-जांच या विचारण को पुन: चालू करना
332- मजिस्ट्रेट या न्यायालय के समक्ष अभियुक्त के हाजिर होने पर प्रक्रिया
333-जब यह प्रतीत हो कि अभियुक्त स्वस्थचित्त रहा है
334-चित्त-विकृति के आधार पर दोष-मुक्ति का निर्णय
335-ऐसे आधार पर दोषमुक्त किए गए व्यक्ति का सुरक्षित अभिरक्षा में निरुद्ध किया जाना
336-भारसाधक अधिकारी को कत्यों का निर्वहन करने के लिए सशक्त करने की राज्य सरकार की शक्ति
337-जहां यह रिपोर्ट की जाती है कि पागल बंदी अपनी प्रतिरक्षा करने में समर्थ है वहां प्रक्रिया
338-जहां निरुद्ध पागल छोड़े जाने के योग्य घोषित कर दिया जाता है वहां प्रक्रिया
339-नातेदार या मित्र की देख-रेख के लिए पागल का सौंपा जाना
340-धारा 195 में वर्णित मामलों में प्रक्रिया
341-अपील
342-खर्चे का आदेश देने की शक्ति
343-जहां मजिस्ट्रेट संज्ञान करे वहां प्रक्रिया
344-मिथ्या साक्ष्य देने पर विचारण के लिए संक्षिप्त प्रक्रिया
345-अवमान के कुछ मामलों में प्रक्रिया
346-जहां न्यायालय का विचार है कि मामले में धारा 345 के अधीन कार्यवाही नहीं की जानी चाहिए वहां प्रक्रिया
347-रजिस्ट्रार या उप-रजिस्ट्रार कब सिविल न्यायालय समझा जाएगा
348- माफी मांगने पर अपराधी का उन्मोचन
349-उत्तर देने या दस्तावेज पेश करने से इनकार करने वाले व्यक्ति को कारावास या उसकी सुपुर्दगी
350-समन के पालन में साक्षी के हाजिर न होने पर उसे दंडित करने के लिए संक्षिप्त प्रक्रिया
351-धारा 344,345, 349 और 350 के अधीन दोषसिद्धियों से अपीलें
352-कुछ न्यायाधीशों और मजिस्ट्रेटों के समक्ष किए गए अपराधों का उनके द्वारा विचारण न किया जाना
353-निर्णय
354-निर्णय की भाषा और अन्तर्वस्तु
355-महानगर मजिस्ट्रेट का निर्णय
356-पूर्वतन सिद्धदोष अपराधी को अपने पते की सूचना देने का आदेश
357-प्रतिकर देने का आदेश
357A-पीड़ित प्रतिकर स्कीम
358-निराधार गिरफ्तार करवाए गए व्यक्तियों को प्रतिकर
359-असंज्ञेय मामलों में खर्चा देने के लिए आदेश
360-सदाचरण की परिवीक्षा पर या भर्त्सना के पश्चात् छोड़ देने का आदेश
361-कुछ मामलों में विशेष कारणों का अभिलिखित किया जाना
362-न्यायालय का अपने निर्णय में परिवर्तन न करना
363-अभियक्त और अन्य व्यक्तियों को निर्णय की प्रति का दिया जाना
364-निर्णय का अनुवाद कब किया जाएगा
365-सेशन न्यायालय द्वारा निष्कर्ष और दंडादेश की प्रति जिला मजिस्ट्रेट को भेजना
366-सेशन न्यायालय द्वारा मृत्यु दंडादेश का पुष्टि के लिए प्रस्तुत किया जाना
367-अतिरिक्त जांच किए जाने के लिए या अतिरिक्त साक्ष्य लिए जाने के लिए निदेश देने की शक्ति
368-दंडादेश को पुष्ट करने या दोषसिद्धि को बातिल करने की उच्च न्यायालय की शक्ति
369-नए दंडादेश की पुष्टि का दो न्यायाधीशों द्वारा हस्ताक्षरित किया जाना
370-मतभेद की दशा में प्रक्रिया
371-उच्च न्यायालय की पुष्टि के लिए प्रस्तुत मामलों में प्रक्रिया
372-जब तक अन्यथा उपबंधित न हो किसी अपील का न होना
373-परिशान्ति कायम रखने या सदाचार के लिए प्रतिभूति अपेक्षित करने वाले या प्रतिभूति स्वीकार करने से इनकार करने वाले या अस्वीकार करने वाले आदेश से अपील
374-दोषसिद्धि से अपील
375-कुछ मामलों में जब अभियुक्त दोषी होने का अभिवचन करे, अपील न होना
376-छोटे मामलों में अपील न होना
377-राज्य सरकार द्वारा दंडादेश के विरुद्ध अपील
378-दोषमुक्ति की दशा में अपील
379-कुछ मामलों में उच्च न्यायालय द्वारा दोषसिद्ध किए जाने के विरुद्ध अपील
380-कुछ मामलों में अपील करने का विशेष अधिकार
381-सेशन न्यायालय में की गई अपीलें कैसे सुनी जाएंगी
382-अपील की अर्जी
383-जब अपीलार्थी जेल में है तब प्रक्रिया
384-अपील का संक्षेपत: खारिज किया जाना
385-संक्षेपत: खारिज न की गई अपीलों की सुनवाई के लिए प्रक्रिया
386-अपील न्यायालय की शक्तियां
387-अधीनस्थ अपील न्यायालय के निर्णय
388-अपील में उच्च न्यायालय के आदेश का प्रमाणित करके निचले न्यायालय को भेजा जाना
389-अपील लंबित रहने तक दंडादेश का निलम्बन ; अपीलार्थी का जमानत पर छोड़ा जाना
390-दोषमुक्ति से अपील में अभियुक्त की गिरफ्तारी
391-अपील न्यायालय अतिरिक्त साक्ष्य ले सकेगा या उसके लिए जाने का निदेश दे सकेगा
392-जहां अपील न्यायालय के न्यायाधीश राय के बारे में समान रूप में विभाजित हों, वहां प्रक्रिया
393-अपील पर आदेशों और निर्णयों का अंतिम होना
394-अपीलों का उपशमन
395-उच्च न्यायालय को निर्देश
396- उच्च न्यायालय के विनिश्चय के अनुसार मामले का निपटारा
397-पुनरीक्षण की शक्तियों का प्रयोग करने के लिए अभिलेख मंगाना
398-जांच करने का आदेश देने की शक्ति
399-सेशन न्यायाधीश की पुनरीक्षण की शक्तियां
400-अपर सेशन न्यायाधीश की शक्ति
401-उच्च न्यायालय की पुनरीक्षण की शक्तियां
402-उच्च न्यायालय की पुनरीक्षण के मामलों को वापस लेने या अन्तरित करने की शक्ति
403-पक्षकारों को सुनने का न्यायालय का विकल्प
404-महानगर मजिस्ट्रेट के विनिश्चय के आधारों के कथन पर उच्च न्यायालय द्वारा विचार किया जाना
405-उच्च न्यायालय के आदेश का प्रमाणित करके निचले न्यायालय को भेजा जाना
406-मामलों और अपीलों को अन्तरित करने की उच्चतम न्यायालय की शक्ति
407-मामलों और अपीलों को अन्तरित करने की उच्च न्यायालय की शक्ति
408-मामलों और अपीलों को अन्तरित करने की सेशन न्यायाधीश की शक्ति
409-सेशन न्यायाधीशों द्वारा मामलों और अपीलों का वापस लिया जाना
410-न्यायिक मजिस्ट्रेटों द्वारा मामलों का वापस लिया जाना
411-कार्यपालक मजिस्ट्रेटों द्वारा मामलों का अपने अधीनस्थ मजिस्ट्रेट के हवाले किया जाना या वापस लिया जाना
412-कारणों का अभिलिखित किया जाना
413-धारा 368 के अधीन दिए गए आदेश का निष्पादन
414-उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए मृत्यु दंडादेश का निष्पादन
415-उच्चतम न्यायालय की अपील की दशा में मृत्यु दंडादेश के निष्पादन का मुल्तवी किया जाना
416-गर्भवती स्त्री को मृत्यु दंड का मुल्तवी किया जाना
417-कारावास का स्थान नियत करने की शक्ति
418-कारावास के दंडादेश का निष्पादन
419-निष्पादन के लिए वारण्ट का निदेशन
420-वारण्ट किसको सौंपा जाएगा
421-जुर्माना उद्गृहीत करने के लिए बारण्ट
422-ऐसे वारण्ट का प्रभाव
423-जुर्माने के उग्रहण के लिए किसी ऐसे राज्यक्षेत्र के न्यायालय द्वारा जिस पर इस संहिता का विस्तार नहीं है, जारी किया गया वारण्ट
424-कारावास के दंडादेश के निष्पादन का निलंबन
425-वारण्ट कौन जारी कर सकेगा
426-निकल भागे सिद्धदोष पर दंडादेश कब प्रभावशील होगा
427-ऐसे अपराधी की दंडादेश जो अन्य अपराध के लिए पहले से दंडादिष्ट है
428-अभियुक्त द्वारा भोगी गई विरोध की अवधि का कारावास के दंडादेश के विरुद्ध मुजरा किया जाना
429-व्यावृत्ति
430-दंडादेश के निष्पादन पर वारण्ट का लौटाया जाना
431-जिस धन का संदाय करने का आदेश दिया गया है उसका जुर्माने के रूप में वसूल किया जा सकना
432-दंडादेशों का निलम्बन या परिहार करने की शक्ति
433-दंडादेश के लघुकरण की शक्ति
433A-कुछ मामलों में छूट या लघुकरण की शक्तियों पर निर्बन्धन
434-मृत्यु दंडादेशों की दशा में केन्द्रीय सरकार की समवर्ती शक्ति
435-कुछ मामलों में राज्य सरकार का केन्द्रीय सरकार से परामर्श करने के पश्चात कार्य करना
436-किन मामलों में जमानत ली जाएगी
436A-अधिकतम अवधि, जिसके लिए विचाराधीन कैदी निरुद्ध किया जा सकता है
437-अजमानतीय अपराध की दशा में कब जमानत ली जा सकेगी
437A-अभियुक्त को अगले अपील न्यायालय के समक्ष उपसंजात होने की अपेक्षा के लिए जमानत
438-गिरफ्तारी की आशंका करने वाले व्यक्ति की जमानत मंजूर करने के लिए निदेश
439-जमानत के बारे में उच्च न्यायालय या सेशन न्यायालय की विशेष शक्तियां
440-बंधपत्र की रकम और उसे घटाना
441-अभियुक्त और प्रतिभुओं का बंधपत्र
441A-प्रतिभुओं द्वारा घोषणा
442-अभिरक्षा से उन्मोचन
443-जब पहले ली गई जमानत अपर्याप्त है तब पर्याप्त जमानत के लिए आदेश देने की शक्ति
444-प्रतिभुओं का उन्मोचन
445-मुचलके के बजाय निक्षेप
446-प्रक्रिया, जब बंधपत्र समपहृत कर लिया जाता है
446A-बंधपत्र और जमानत पत्र का रद्दकरण
447-प्रतिभू के दिवालिया हो जाने या उसकी मृत्यु हो जाने या बंधपत्र का समपहरण हो जाने की दशा में प्रक्रिया
448-अवयस्क से अपेक्षित बंधपत्र
449-धारा 446 के अधीन आदेशों से अपील
450-कुछ मुचलकों पर देय रकम का उग्रहण करने का निदेश देने की शक्ति
451-कुछ मामलों में विचारण लंबित रहने तक सम्पत्ति की अभिरक्षा और व्ययन के लिए आदेश
452-विचारण की समाप्ति पर सम्पत्ति के व्ययन के लिए आदेश
453-अभियुक्त के पास मिले धन का निर्दोष क्रेता को संदाय
454-धारा 452 या 453 के अधीन आदेशों के विरुद्ध अपील
455-अपमानलेखीय और अन्य सामग्री का नष्ट किया जाना
456-स्थावर सम्पत्ति का कब्जा लौटाने की शक्ति
457-सम्पत्ति के अभिग्रहण पर पुलिस द्वारा प्रक्रिया
458-जहां छह मास के अन्दर कोई दावेदार हाजिर न हो वहां प्रक्रिया
459-विनश्वर सम्पत्ति को बेचने की शक्ति
460-वे अनियमितताएं जो कार्यवाही को दूषित नहीं करतीं
461-वे अनियमितताएं जो कार्यवाही को दूषित करती हैं
462-गलत स्थान में कार्यवाही
463-धारा 164 या धारा 281 के उपबंधों का अननुपालन
464-आरोप विरचित न करने या उसके अभाव या उसमें गलती का प्रभाव
465-निष्कर्ष या दंडादेश कब गलती, लोप या अनियमितता के कारण उलटने योग्य होगा
466-त्रुटि या गलती के कारण कुर्की का अवैध न होना
467-परिभाषा
468-परिसीमा-काल की समाप्ति के पश्चात् संज्ञान का वर्जन
469-परिसीमा-काल का प्रारंभ
470-कुछ दशाओं में समय का अपवर्जन
471-जिस तारीख को न्यायालय बंद हो उस तारीख का अपवर्जन
472-चालू रहने वाला अपराध
473-कुछ दशाओं में परिसीमा-काल का विस्तारण
474-उच्च न्यायालयों के समक्ष विचारण
475-सेना न्यायालय द्वारा विचारणीय व्यक्तियों का कमान आफिसरों को सौंपा जाना
476-प्ररूप
477-उच्च न्यायालय की नियम बनाने की शक्ति
478-कुछ दशाओं में कार्यपालक मजिस्ट्रेटों को सौंपे गए कृत्यों को परिवर्तित करने की शक्ति
479-वह मामला जिसमें न्यायाधीश या मजिस्ट्रेट वैयक्तिक रूप से हितबद्ध है
480-विधि-व्यवसाय करने वाले प्लीडर का कुछ न्यायालयों में मजिस्ट्रेट के तौर पर न बैठना
481-विक्रय से संबद्ध लोक सेवक का सम्पत्ति का क्रय न करना और उसके लिए बोली न लगाना
482-उच्च न्यायालय की अन्तर्निहित शक्तियों की व्यावृत्ति
483-न्यायिक मजिस्ट्रेटों के न्यायालयों पर अधीक्षण का निरंतर प्रयोग करने का उच्च न्यायालय का कर्तव्य
484-निरसन और व्यावृत्तियां


%d bloggers like this: